22 Aug 2017, 06:55:11 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us facebook twitter android
country

समाजवादी कूनबे का कलह फिलहाल के लिए थमा, अखिलेश के हाथों में टिकट बंटवारे का जिम्मा

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

 लखनऊ।  पांच दिनों से समाजवादी पार्टी में जारी शीतयुद्ध अभी थमा तो नहीं है लेकिन उसकी तासीर जरूर धीमी पड़ी है। पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष लिए जाने के बाद से आहत अखिलेश यादव को उनके पिता मुलायम सिंह यादव ने टिकट बांटने का अधिकार दे दिया है। हालांकि अब तक समाजवादी पार्टी की तरफ से इस बात की औपचारिक घोषणा नहीं की गई है। वहीं शनिवार की सुबह मुख्यमंत्री और मुलायम सिंह के आवास पर जमा हुए अखिलेश समर्थकों की नारेबाजी से गुस्साए मुलायम को यह तक कहना पड़ा कि भाजपा बूथ मजबूत करने में जुटी है और हम लड़ रहे हैं। समाजवादी पार्टी के मुख्यमंत्री अखिलेश ने अपने सरकारी आवास पर मीडिया से अपना दर्द साझा किया।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में पांच सालों तक काम करें हम, सरकार का रिपोर्ट कार्ड लेकर जनता के बीच जाएं हम और विधानसभा चुनाव का टिकट बांटने का अवसर उन्हें न दिया जाए। अखिलेश की यह बात उनके पिता को समझ आ गई है। यही वजह है कि अखिलेश को नेताजी समाजवादी पार्टी के संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष बनाने पर मंथन कर रहे हैं। यदि यह पद अखिलेश यादव के पास आ गया तो टिकट बांटने में उनकी राय भी बेहद अहम हो जाएगी। पांच दिनों से समाजवादी पार्टी और सरकार में चल रहे शीतयुद्ध को बहुत हद तक समाप्त कर अखिलेश विजय की मुद्रा में हैं। शिवपाल को लोक निर्माण विभाग न देकर और टिकट बंटवारे में अपनी राय भी शामिल करवा कर अखिलेश ने इस बात के संकेत दे दिए हैं कि पूर्ण बहुमत की जो सरकार उनकी अगुआई में बनी, उसका श्रेय लूटने का हिमाकत कोई नहीं कर सकता है।
शनिवार सुबह से मुख्यमंत्री आवास की एक किलोमीटर की परिधि में स्थित मुलायम आवास और सपा के प्रदेश मुख्यालय के बीच उमड़े अखिलेश समर्थकों के हुजूम ने अमर सिंह के विरोध में नारेबाजी की। कुछ जगहों पर शिवपाल समर्थकों के साथ उनकी हल्की नोंक-झोंक भी हुई। चार घंटे से अधिक समय तक सड़क पर चले शक्ति प्रदर्शन के बीच अखिलेश ने मुख्यमंत्री आवस पर युवा कार्यकर्ताओं को बुला कर उनसे साफ कहा कि पार्टी की युवा इकाइयों के राष्टीय प्रभारी वे हैं। साथ ही उन्होंने कार्यकर्ताओं को नसीहत भी दी कि पूरे प्रदेश में कहीं भी शिवपाल यादव और उनको लेकर नकारात्मक संदेशों वाले न ही पोस्टर लगाए जाएंगे और न ही बैनर। उन्होंने कार्यकर्ताओं से साफ कहा कि यदि कहीं भी ऐसा कोई बैनर पोस्टर नजर आया तो सख्त कार्रवाई होगी।
उधर समाजवादी पार्टी के प्रदेश कार्यालय पर मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश समर्थकों से सवाल किया कि ऐन विधानसभा चुनाव के पहले तुम लोग अपने जिलों को छोड़ कर लखनऊ कैसे आए? भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता बूथ दुरुस्त करने में जुटे हैं और तुम लोग लखनऊ आकर लड़ रहे हो। शिवपाल सिंह यादव पर नेताजी बोले, शिवपाल ने समाजवादी पार्टी के लिए कितनी तकलीफें सही हैं? तुममें से ज्यादातर को इस बात का इल्म ही नहीं है। मुलायम के संबोधन के बीच ही मुख्यमंत्री ने शिवपाल यादव के आवास पर पहुंच कर उनसे करीब 20 मिनट तक सलाह-मश्विरा किया। किन मसलों पर बात हुई? इस बात का खुलासा तो अब तक नहीं हो सका लेकिन सूत्र यह जरूर बता रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में अखिलेश की संगठन में भी भूमिका बेहद अहम होगी। उनको टिकट बांटने का अधिकार दिया जाएगा। इस पर शिवपाल को मनाने में मुलायम कामयाब हो गए हैं। बस इसकी औपचारिक घोषणा होनी बाकी है।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »